ओटीटी क्या है OTT Kya Hai, भारत में प्रसिद्ध OTT प्लेटफॉर्म

OTT Kya Hai, समय के साथ बदलती टेक्नॉलजी और इंटरनेट ने हर चीज को आसान कर दिया है, आज के समय में चाहे फिल्में हो या टीवी सीरियल या कोई वेब सीरीज ये सब हमारे स्मार्टफोन में उपलब्ध है, OTT के माध्यम से।

Hello Friends, स्वागत है आपका हमारे ब्लॉग पर आज हम बात करने जा रहे है ओटीटी के बारे में, ये क्या है? इसके क्या फायदे और नुकसान है? भारत में अभी कितने ओटीटी प्लेटफॉर्म है जानेंगे इन सभी चीजों के बारे में उम्मीद करता हूँ आपको यह पसंद आएगा।

ओटीटी क्या है OTT Kya Hai?-

“OTT” (ओटीटी) का फूल फॉर्म “Over-the-Top” (ओवर द टॉप) होता है, यहाँ पर फोन और स्मार्ट टीवी के माध्यम से तमाम तरह की फिल्में, सीरीज़ और शोज़ उपलब्ध है।

जिन्हें आप घर बैठे जब चाहे देख सकते है, इसे प्रयोग करने के लिए इंटरनेट और ओटीटी प्लेटफॉर्म के सब्स्क्रिप्शन लेने की जरूरत पड़ती है।

हालांकि कुछ ऐसे भी शोज होते है जो कि फ्री में उपलब्ध होते है लेकिन इनकी संख्या सीमित ही होती है।

ott kya hai in hindi

ott kya hai in hindi

पिछले कुछ सालों में ओटीटी ने जिस तरह से आम लोगों के दिलों में जगह बनाई है, वह काफी बेहतरीन है और ऐसा होने के पीछे सबसे बड़ा कारण है, इसका कंटेन्ट, जो कि बाकी के माध्यम से अलग बनाता है और खास भी।

टीवी और सिनेमा पर जो भी फिल्में या शोज दिखाए जाते है वह सेंसर बोर्ड के द्वारा पूरी तरह से कंट्रोल किये जाते है, ताकि किसी भी प्रकार के अडल्ट कंटेन्ट लोगों के पास न पहुँचें।

जबकि ओटीटी इससे बिल्कुल अलग है यहाँ पर इस तरह का कोई भी सेंसर बोर्ड का बंधन नहीं है, यही कारण है कि इस तरह के प्लेटफॉर्म पर जो वेबसीरीज आती है।

उनमें काफी ज्यादा अपशब्द और अडल्ट सीन होते है, जो कि साधारण सिनेमा में नहीं देखने को मिलते है। (OTT Kya Hai)

भारत में ओटीटी की शुरुआत –

साल 2008 में पहली बार “रिलायंस एंटरटेनमेंट” ने देश के पहले ओटीटी प्लेटफॉर्म Bigflix की शुरुआत की।

लेकिन इससे पहले ओटीटी प्लेटफॉर्म की शुरुआत अमेरिका में हो चुकी थी, बाद में इसने भारत में अपनी पहुँच बनाई।

इसके बाद साल 2010 में Digivive ने NEXG TV नाम से ओटीटी मोबाइल एप लॉन्च किया जिसमें वीडियो ऑन डिमांड के साथ टीवी भी देखा जा सकता था।

इसके बाद जैसे-जैसे इंटरनेट ने भारत में अपनी पहुँच बनाई नए-नए ओटीटी प्लेटफॉर्म खुलते गए अब तो भारत में कई तरह के ओटीटी प्लेटफॉर्म्स लॉन्च हो चुके हैं।

जैसे – डिज़्नी प्लस हॉटस्टार, नेटफ्लिक्स, VOOT, G5, अमेज़न प्राइम वीडियो, ऑल्ट बालाजी etc.

ओटीटी के फायदे –

ओटीटी के बहुत सारे फायदे है, इसकी वजह से न सिर्फ कंटेन्ट को अपने मनचाहे समय पर देखना आसान हो गया है बल्कि यह सिनेमा का भविष्य भी कहा जा सकता है।

इसने काफी हद तक लोगों को सिनेमाघरों में जाने पर रोक लगा दी है, आज के समय में यहाँ अलग-अलग प्लेटफॉर्म पर बहुत से कंटेन्ट की वैरायटी मौजूद है।

अपनी कई सारी खूबियों के कारण आज के समय में ओटीटी ने धूम मचा रखी है, पारंपरिक मनोरंजन के साधनों की अपेक्षा इसके कुछ फायदे है जो इसको खास बनाते है।

किसी भी समय देखने की आजादी –

टीवी धारावाहिक, फिल्म या सिनेमाघर में कोई फिल्म देखनी हो तो उसके लिए उस कंटेन्ट के टाइमिंग के अनुसार आपको टीवी के पास मौजूद रहना होता है।

ओटीटी प्लेटफॉर्म इसकी एक बहुत बड़ी सुविधा देते है कि आप जब चाहें जहां चाहें अपनी टाइमिंग के अनुसार कंटेन्ट देख सकते है।

इसके साथ मिलने वाली समय की आजादी एक बहुत बड़ा प्लस पॉइंट है, जो कि इसे बाकी से अलग करती है।

एड फ्री कंटेंट –

यदि आप सब्स्क्रिप्शन पैकेज लेते है तो अलगभग सभी प्लेटफॉर्म आपको एड फ्री इक्स्पीरीअन्स देते है।

जबकि टीवी या थियेटर में आपको एड दिखाए जाते है, जबकि उस शो के लिए पहले से ही पैसे दिए हुए होते है।

बिना किसी एड के कंटेन्ट देखना काफी अच्छा इक्स्पीरीअन्स तो देता है साथ ही यह आपका कीमती समय भी बचाता है।

साथ ही अपने टाइम पर कोई भी मनपसंद कंटेन्ट देखने की आजादी एक बेहतरीन कॉम्बीनेशन बन जाता है।

बार-बार देखने की आजादी –

ओटीटी पर किसी भी कंटेन्ट को एक से ज्यादा बार देखने की आजादी मिलती है, जो कि एक कमाल का फीचर लेकर आता है।

आप कोई भी वीडियो या ऑडियो कंटेंट को ओटीटी प्लेटफार्म पर जितनी बार चाहे देख सकते हैं।

किसी भी डिवाइस पर देखने की आजादी –

लगभग सभी ओटीटी प्लेटफॉर्म सब्स्क्रिप्शन के अनुसार एक से अधिक डिवाइसेस में लॉगिन करने की सुविधा देते है।

इसकी मदद से आप इसके कंटेन्ट का आनंद स्मार्टफोन, कंप्युटर, स्मार्ट टीवी इत्यादि डिवाइसेस पर लॉगिन करके ले सकते है।

कहीं से भी देखने की आजादी –

अब क्योंकि ये सारा सिस्टम इंटरनेट से काम करता है तो पूरी दुनिया में कहीं से भी इन सभी कंटेन्ट को एक्सेस किया जा सकता है।

मनोरंजन के पुराने माध्यम जैसे टीवी और सिनेमा हॉल में एक ही जगह पर बैठकर वीडियो देखने की मजबूरी से हमें छुटकारा दिलाता है।

बहुत तरह का कंटेंट –

वैसे तो अलग-अलग प्लेटफॉर्म अपने खास तरह के कंटेन्ट टेस्ट और क्वालिटी के लिए जाने जाते है।

किसी पर बाकी कंटेन्ट के साथ स्पोर्ट्स तो कहीं पर रिजनल सिनेमा को ज्यादा प्राथमिकता दी जाती है।

लेकिन आमतौर पर सभी प्लेटफॉर्म पर सभी तरह का कंटेन्ट मिल जाता है, एक से अधिक भाषाओं में दूसरे देशों के कंटेन्ट को आप आसानी से इस प्लेटफॉर्म पर देख सकते है।

डाउनलोड करने की सुविधा –

बाकी सुविधाओं के साथ यदि आप चाहें तो यहाँ पर मौजूद कंटेन्ट को डाउनलोड भी कर सकते है, ताकि आप जब चाहें बिना इंटरनेट के भी उसे देख सकें।

लगभग सभी प्लेटफॉर्म पर कंटेन्ट डाउनलोड करने की सुविधा मिलती है, जो कि इसको यूज करने में आसान बनाती है।

पॉपुलर ओटीटी प्लेटफॉर्म्स –

डिज़्नी प्लस हॉटस्टार –

डिज़्नी प्लस हॉटस्टार आज के समय में भारत का दूसरा सबसे बड़ा, ओटीटी प्लेटफॉर्म है, स्टार नेटवर्क कंपनी अब डिज्नी के स्वामित्व में है।

यह फरवरी 2015 में भारत में लॉन्च किया गया, इसके लगभग 450 मिलियन से अधिक सक्रिय मासिक यूजरबेस है।

डिज़्नी प्लस हॉटस्टार पर आठ अलग-अलग भाषाओं में फिल्मों, मूल वेब सीरीज उपलब्ध है, इतना ही नहीं क्रिकेट, फुटबॉल, बैडमिंटन, कबड्डी, बास्केटबॉल जैसे विभिन्न आयोजनों के लिए लाइव स्पोर्ट्स स्ट्रीमिंग की सुविधा मिलती है। (OTT Kya Hai)

नेटफ्लिक्स –

दुनिया के190 से भी अधिक देशों में अपनी उपस्थिति के साथ, यह ओटीटी प्लेटफार्मों में वैश्विक लीडर है।

नेटफ्लिक्स यूएस-आधारित वीडियो स्ट्रीमिंग कंपनी है और साल 2016 में भारत में इसकी शुरुआत हुई।

यह फिल्मों, टीवी शो, वेब सीरीज की विस्तृत श्रृंखला को बिना विज्ञापन के देखने की सुविधा प्रदान करता है।

भारत की प्रमुख क्षेत्रीय भाषाओं हिंदी, अंग्रेजी और तमिल, पंजाबी, गुजराती और मराठी यहाँ पर कंटेन्ट उपलब्ध है।

अमेजन प्राइम –

अमेजन प्राइम जो कि अनलाइन शॉपिंग पोर्टल “अमेजन” के द्वारा शुरू किया गया है।

जुलाई 2016 में भारत में लॉन्च किया गया यह प्लेटफॉर्म नेटफ्लिक्स के लिए एक भयंकर प्रतियोगी के रूप में उभरा।

16 से अधिक देशों में उपस्थिति, अंग्रेजी, हिंदी और साथ ही क्षेत्रीय भाषाओं में फिल्में, वेब सीरीज प्रदान करती है।

जनवरी 2020 में, अमेजन के संस्थापक जेफ बेजोस ने भारत का दौरा किया और अमेजन प्राइम पर इंडियन कंटेन्ट को बढ़ावा देने के लिए $300 मिलियन का निवेश किया।

अमेजन प्राइम पर सबसे प्रसिद्ध वेबसीरीज Mirzapur, Four More shots, Family Man, Inside Edge है, जिन्हें आपको जरूर देखना चाहिए।

एमएक्स प्लेयर –

एंड्रॉयड की शुरुआत में एमएक्स प्लेयर एक विडिओ प्लेयर एप के रूप में यूज किया जाता था।

स्मार्टफोन के साथ आने वाले विडिओ प्लेयर एप की तुलना में इसमें की सारे कहस फीचर्स मिलते थे, जिसके कारण यह काफी पोपुलर हो गया।

बाद में…फरवरी 2019 में, टाइम्स इंटरनेट ग्रुप ने इसका समर्थन किया और इसे ओटीटी के रूप में लॉन्च किया, आज यह 500 मिलियन से भी अधिक यूजरबेस के साथ सबसे ज्यादा यूजरबेस वाला पलटेफ्रॉम बन गया है।

अल्ट बालाजी –

एकता कपूर की बालाजी टेलीफिल्म्स के स्वामित्व में, मुकेश अंबानी की रिलायंस इंडस्ट्रीज द्वारा समर्थित, यह भी एक पॉपुलट ओटीटी प्लेटफॉर्म है।

यहाँ पर मुख्यतः हिंदी, बंगाली, तमिल और गुजराती भाषाओं में बहुत से प्रसिद्ध शो उपलब्ध है।

वूट –

Viacom.18 के स्वामित्व में इसे साल 2016 में भारत में लॉन्च किया गया
कलर्स, एमटीवी, निकेलोडियन, वायाकॉम.18 मोशन पिक्चर्स और एमटीवी इंडीज के दैनिक शो सहित हर तरह के कंटेन्ट की वैरायटी यहाँ मौजूद है।

32 मिलियन से अधिक यूजरबेस के साथ, इस प्लेटफॉर्म पर प्रमुख शो बिग बॉस और रोडीज़ जैसे शो शामिल हैं, जो कि युवाओं के बीच काफी प्रसिद्ध है।

बिगफ्लिक्स –

रिलायंस एंटरटेनमेंट के स्वामित्व में मूल रूप से 2012 में लॉन्च किया गया भारत का पहला ओटीटी प्लेटफॉर्म है, बाद में साल 2017 में इसे नया रूप दिया गया।

भारत की 9 से भी अधिक अथनीय भाषाओं हिंदी, तेलुगु, तमिल, पंजाबी, भोजपुरी और बंगाली में उपलब्ध है।

3.9 मिलियन यूजरबेस के साथ यह भारत का पहला ओटीटी प्लेटफॉर्म के रूप में जाना जाता है।

उल्लू –

साल 2018 में लांच हुआ यह प्लेटफॉर्म अपने एडल्ट कंटेन्ट के लिए ज्यादा प्रसिद्ध है, की सारी वेब सीरीज में कामुक और विचारोत्तेजक से भरे सीन देखने को मिलेंगे।

यह ज्यादातर पुरुषों के बीच ज्यादा लोकप्रिय है, इसका अंदाजा आप इसी बात से लगा सकते है कि, लगभग 80% से भी ज्यादा यूजरबेस पुरुष उपयोगकर्ता है।

मेल ऑडियंस की उम्र सीमा को देखें तो यह 18 से 24 के बीच है, गूगल प्ले स्टोर पर 1 मिलियन से भी ज्यादा डाउनलोड्स इस एप के दर्ज किये गए है। (OTT Kya Hai)

ओटीटी के नुकसान –

जैसा कि हमने देखा कि ओटीटी के बहुत से फायदे है जो इसको खास बनाते है, लेकिन एक बहुत बड़ी समस्या है जो इसके सभी फायदे को फीका कर देती है।

और वह समस्या है, यहाँ अश्लील कंटेन्ट की भरमार….

ओटीटी पर बिना किसी रोकटोक के अक्सर ऐसा कंटेन्ट देखने को मिल जाता है, जो कि आप केवल अकेले में या अपने खास दोस्तों के साथ ही देख सकते है जिनके साथ आप पूरी तरह कम्फर्टेबल हो।

शुरुआत में गोवर्मेंट का इसपर कोई निश्चित नियम नहीं था जिसकी वजह से अश्लील कंटेन्ट की भरमार देखने को मिल रही थी।

इसी को देखते हुए गोवर्मेंट ने कुछ नियाम बनाए जिसके तहत ओटीटी प्लेटफॉर्म्स को इन नियमों का पालन करना अनिवार्य हो गया है, ताकि खास तौर पर यहाँ मौजूद कंटेन्ट के बारे में लोगों को पता हो।

नीचे दिए गए नियम बनाए गए ताकि कोई भी कंटेन्ट देखने से पहले यूजर को इसके बारे में अच्छी तरह जानकारी हो।

इलेक्ट्रॉनिकी और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के द्वारा डिजिटल मीडिया, ओटीटी प्लेटफॉर्म और सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के लिए जारी गाइड्लाइन (डिजिटल मीडिया आचार संहिता नियम 2021) और नियम के अनुसार –

1. ओटीटी प्लेटफॉर्म्स को उम्र के आधार पर मूवीज और अनलाइन कंटेन्ट का खुद से ही कैटगरी बनानी होगी।

2. इसके लिए उम्र पर आधारित पाँच वर्ग बनाए गए है –
U (यूनिवर्सल)
U/A 7+
U/A 13+
U/A 16+
A (वयस्क – Adult)

3. ओटीटी प्लेटफॉर्म को U/A 13+ या उससे ऊंची कैटगरी के कंटेन्ट के लिए पेरेंटल लॉक लागू करना होगा, ताकि ऐडल्ट कंटेन्ट कि छोटे बच्चों की पहुँच तक न हो पाए।

4. एडल्ट कंटेन्ट को दिखाने से पहले यूजर की पहचान के लिए एक उम्र को वेरफाइ करने वाला सिस्टम लगाना होगा।

5. ऑनलाइन कंटेन्ट पब्लिशर को कंटेन्ट के विवरण में मुख्य रूप से रेटिंग के बारे में जानकारी देना अनिवार्य है, इसके साथ ही यूजर को कंटेन्ट की प्रकृति के बारे में जानकारी देनी होगी।

6. प्रत्येक कंटेन्ट की स्टार्टिंग में Viewer Description (यदि लागू हो) पर कार्यक्रम देखने के लिए सलाह देना होगा, जिसमें यह बताना होगा कि इस कंटेन्ट को देखने से पहले यूजर खुद फैसला ले पाने में सक्षम हो।

ओटीटी क्या है, OTT Kya Hai, ओटीटी के नियमों के बारे में ज्यादा जानने के लिए दृष्टि आईएएस के इस विडिओ को देख सकते है –

What is OTT Platform in Hindi?

“OTT” (ओटीटी) का फूल फॉर्म “Over-the-Top” (ओवर द टॉप) होता है, यहाँ पर फोन और स्मार्ट टीवी के माध्यम से तमाम तरह की फिल्में, सीरीज़ और शोज़ उपलब्ध है, जिन्हें आप घर बैठे जब चाहे देख सकते है, इसे प्रयोग करने के लिए इंटरनेट और ओटीटी प्लेटफॉर्म के सब्स्क्रिप्शन लेने की जरूरत पड़ती है।

ओटीटी प्लेटफॉर्म कितने हैं?

आज के समय में भारत में 40 से भी ज्यादा ओटीटी प्लेटफॉर्म्स मौजूद है, इन सभी पर कंटेन्ट की वाइड रेंज ऑफ वैरायटी देखने को मिलती है।

कौन सा ओटीटी प्लेटफॉर्म बेस्ट है?

लगभग सभी ओटीटी पर अलग-अलग और खुद के इक्स्क्लूसिव कंटेन्ट मौजूद रहते है, जो कि केवल उसी प्लेटफॉर्म पर देखने को मिलता है, इसलिए यूजर को जिस प्लेटफॉर्म का कंटेन्ट पसंद आता है उसकी तरफ जाना पड़ेगा।

भारत में सबसे बड़ा ओटीटी प्लेटफॉर्म कौन सा है?

भारत में जिओ सिनेमा के पास सबसे ज्यादा सबस्क्राइबर बेस है।

Summary –

ओटीटी क्या है, OTT Kya Hai, इस टॉपिक पर यह आर्टिकल आपको कैसा लगा हमें जरूर बताएं नीचे कमेन्ट बॉक्स के माध्यम से और यदि आपके पास इससे संबंधित कोई भी सवाल या सुझाव हो तो उसे भी लिखना न भूलें नीचे कमेन्ट बॉक्स के माध्यम से, धन्यवाद 🙂

A Student, Digital Content Creator, and Passion for Photography... Founder of 'Hindi Me Blog' इस ब्लॉग पर आपको टिप्स & ट्रिक्स, योजना, लाइफस्टाइल, हाउ टू से संबंधित जानकारियाँ देखने को मिलेंगी, रोज कुछ नया सीखने के लिए हमारे ब्लॉग को विजिट करें।

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.