Teleprompter Kya Hota Hai टेलीप्रॉम्प्टर क्या है, इसका प्रयोग और फायदे

स्कूल के दिनों में हो सकता है आपने अनुभव किया हो कि जब भी हमें किसी टॉपिक पर लोगों से सामने या स्टेज पर बोलना होता है तो पहले हम उसे याद करते है फिर किसी के सामने बोलते है।

लेकिन क्या हो यदि आपको रोज नए-नए भाषण देने के लिए उसे याद करना पड़े, तो क्या करेंगे?? यह एक बहुत बड़ी समस्या होगी तो हर बार किसी भी भाषण को याद करने से बचने के लिए टेलेप्रॉम्प्टर का प्रयोग किया जाता है।

Hello Friends, स्वागत है आपका हमारे ब्लॉग पर आज हम बात करने जा रहे है टेलेप्रॉम्प्टर के बारे में यह क्या है, इसके क्या प्रयोग है, टेलीप्रॉम्प्टर के फ़ायदों और नुकसान के बारे में भी बात करेंगे उम्मीद करता हूँ आपको यह आर्टिकल पसंद आएगा।

Teleprompter Kya Hota Hai टेलीप्रॉम्प्टर क्या होता है? –

टेलीप्रॉम्प्टर को प्रॉम्प्टर या ऑटोक्यू के भी नाम से जाना जाता है। यह एक तरह कि डिवाइस होती है, जिसके जरिए कुछ पढ़ा जा सकता है।

‘टेलीप्रॉम्प्टर’ अंग्रेजी के दो शब्दों “Tele” और “Prompter” से मिलकर बना है, इसमें “Tele” का अर्थ “दूर” और “Prompter” का अर्थ “अनुबोधक” या “स्मरण करना” होता है।

जिस तरह आप किसी किताब या पेज पर कुछ लिखा हुआ पढ़ते हैं, वैसे ही टेलीप्रॉम्प्टर में भी एक डिजिटल स्क्रीन के माध्यम से पढ़ा जाता है।

देखने में टेलीप्राम्प्टर एक साधारण सा उपकरण होता है, जब भी आप इसका उपयोग करते हुए किसी को स्टेज पर देखते है, तो स्पीकर के लेफ्ट और राइट साइड में दो कांच के छोटे-छोटे टुकड़े एक स्टैन्ड पर लगे हुए होते है।

teleprompter kya hota hai
Teleprompter Kya Hota Hai

जब सामने से आप उस कांच को देखते है तो उसमें कुछ दिखाई नहीं देता है यह बिल्कुल साधारण पारदर्शी कांच की तरह दिखता है।

लेकिन पीछे स्पीकर की तरफ से देखने पर, स्पीच, टेक्स्ट के रूप में लिखा हुआ दिखाई देता है।

टेलीप्राम्प्टर के भाग –

टेलीप्रॉम्पटर के मुख्य रूप से दो भाग होते है, जिसमें पहला है मॉनिटर डिस्प्ले और दूसरा बीम स्पिलिटर मिरर।

मॉनिटर आमतौर पर नीचे या जमीन पर फर्श के ऊपर सेट किया हुआ होता है और बीम स्पिलिटर मिरर मॉनिटर के ठीक ऊपर 45° के कोण पर झुका होता है।

इस डिवाइस के हम केवल बीम स्पिलिटर मिरर वाले हिस्से को ही देखते है क्योंकि यह वो हिस्सा है जो वक्ता के सामने दिखाई देता है।

अब जब भी किसी व्यक्ति को कोई भाषण देना होता है तो नीचे लगे मॉनिटर में लिखे गए भाषण (स्क्रिप्ट) मॉनिटर पर चलाया जाता है।

मॉनिटर की स्क्रीन पर दिख रहा कंटेन्ट ऊपर लगे बीम स्पिलिटर मिरर से टकराकर भाषण देने वाले व्यक्ति को दिखाई देता है।

Teleprompter Kya Hota Hai
Teleprompter Kya Hota Hai

Teleprompter Kya Hota Hai, ध्यान दें जब भी टेलीप्राम्प्टर पर किसी कंटेन्ट को दिखाया जाता है तो वह डिस्प्ले पर उल्टा होता है, ऊपर लगे बीम स्पिलिटर मिरर से टकराकर वह शब्द सीधा हो जाता है।

नीचे मॉनिटर की स्क्रीन पर जो भी भाषण दिखाई देता है, उसे आवश्यकतानुसार कम या तेज किया जा सकता है, इसका कंट्रोल भाषण देने वाले व्यक्ति के हाथों में होता है।

टेलीप्राम्प्टर की एक सबसे खास बात यह है कि इसपर जो भी कंटेन्ट दिखाई देते है वो केवल भाषण देने वाले व्यक्ति को ही दिखाई देते है।

सामने जो भी दर्शक मौजूद होते है, उन्हें यह केवल एक कांच का एक पारदर्शी टुकड़ा दिखाई देता है, यही कारण है कि टेलीप्राम्प्टर का प्रयोग ज्यादा प्रोफेशनल लगता है।

टेलीप्राम्प्टर कैसे काम करता है –

जैसा कि हमने ऊपर बात की है इसमें दो भाग होते है, पहला है डिस्प्ले और दूसरा कांच का हल्के काले रंग का ग्लास होता है।

ऊपर का कांच 45 डिग्री के कोण पर मुड़ा होता है और उस कांच के ठीक नीचे डिस्प्ले लगा होता है, अलग-अलग टेलीप्राम्प्टर में यह व्यवस्था अलग-अलग होती है।

जब भी कांच पर कुछ दिखाना हो तो स्क्रीन पर उन शब्दों को उल्टा करके दिखाया जाता है और कांच से टकराकर वह शब्द भाषण देने वाले व्यक्ति को सीधे दिखाई देते है।

हालांकि अभी के समय में बड़े टेलीप्राम्प्टर में कांच की जगह बड़ी सी स्क्रीन का प्रयोग किया जाता है और इसपर कंटेन्ट सीधा डिस्प्ले किया जाता है, ये स्क्रीन स्टेज के नीचे या दर्शकों के पीछे लगाए जाते है।

टेलीप्राम्प्टर का इतिहास –

आज का टेलीप्राम्प्टर शुरुआत में ऐसा नहीं था, पहले इसमें पेपर का प्रयोग होता था, बाद में इलेक्ट्रॉनिक कंप्युटर के आने के बाद यह भी इलेक्ट्रॉनिक मे बदल दिया गया।

पहला मैकेनिकल पेपर रोल टेलीप्रॉम्प्टर – 1952 में अमेरिकी राजनीतिक सम्मेलनों में टेलीविजन प्रस्तुतकर्ताओं और वक्ताओं द्वारा उपयोग किया गया।
डुअल ग्लास टेलीप्रॉम्प्टर – 1964 में टीवी प्रस्तुतकर्ताओं और अमेरिकी सम्मेलनों के लिए उपयोग किया गया।

1982 के कंप्यूटर-आधारित रोल और अमेरिकी सम्मेलनों के लिए चार-प्रॉम्प्टर प्रणाली – 1996 में एक बड़ा ऑफ-स्टेज कॉन्फिडेंस मॉनिटर और इनसेट लेक्चर मॉनिटर जोड़ा गया।

2006 में यूके के राजनीतिक सम्मेलनों में ग्लास टेलीप्रॉम्प्टर के स्थान पर कई बड़े ऑफ-स्टेज कॉन्फिडेंस मॉनिटर लगाए गए।

टेलीप्रोम्प्टर कॉर्पोरेशन की स्थापना 1950 के दशक में फ्रेड बार्टन, जूनियर, ह्यूबर्ट श्लाफली और इरविंग बर्लिन कहन द्वारा की गई थी।

बार्टन एक अभिनेता थे जिन्होंने टेलीविजन कलाकारों की सहायता के साधन के रूप में टेलीप्रॉम्प्टर की अवधारणा का सुझाव दिया था, जिन्हें कम समय में बड़ी मात्रा में सामग्री याद रखनी होती थी।

श्लाफली ने 1950 में पहला टेलीप्रॉम्प्टर बनाया था, यह केवल एक यांत्रिक उपकरण था, जिसे कैमरे के पास स्थित एक छिपे हुए तकनीशियन द्वारा संचालित किया जाता था।

स्क्रिप्ट, इंच-ऊँचे अक्षरों में, एक विशेष इलेक्ट्रिक टाइपराइटर द्वारा एक पेपर स्क्रॉल पर मुद्रित की गई थी, जिसे कलाकार के पढ़ने के साथ-साथ उन्नत किया गया था, और मशीनों को 30 डॉलर प्रति घंटे की तत्कालीन काफी बड़ी राशि के लिए किराए पर लिया गया था।

टेलीप्रॉम्प्टर का उपयोग पहली बार 4 दिसंबर 1950 को सीबीएस साबुन “द फर्स्ट हंड्रेड इयर्स” के फिल्मांकन में किया गया था।

इसका उपयोग 1953 में ल्यूसिले बॉल और देसी अर्नाज़ द्वारा कैमरे पर विज्ञापन पढ़ने के लिए किया गया था।

जेस ओपेनहाइमर, जिन्होंने “आई लव लूसी” फिल्म बनाई और इसके पहले पांच वर्षों तक इसके निर्माता और मुख्य लेखक के रूप में काम किया, उन्होंने पहला “इन-द-लेंस” प्रॉम्प्टर विकसित किया और इसके निर्माण के लिए उन्हें अमेरिकी पेटेंट से सम्मानित किया गया।

उनके द्वारा बनाया गया यह सिस्टम एक स्क्रिप्ट को कैमरे के लेंस के सामने रखे कांच के टुकड़े पर प्रतिबिंबित करने के लिए दर्पण का उपयोग करता है, इस प्रकार पाठक को सीधे कैमरे में देखने की अनुमति मिलती है।

ड्रगनेट (1951 टीवी श्रृंखला) के निर्माताओं ने अनुमान लगाया कि टेलीप्रॉम्प्टर के उपयोग से शो के निर्माण समय में 50% तक की कमी आई है।

आर्थर गॉडफ्रे , रेमंड मैसी , सर सेड्रिक हार्डविक और हेलेन हेस इस तकनीक के शुरुआती उपयोगकर्ता थे।

अपनी खूबियों की वजह से यह नई प्रौद्योगिकी जल्द ही टेलीविजन समाचारों का प्रमुख हिस्सा बन गई और आज समाचार प्रसारणकर्ताओं द्वारा उपयोग की जाने वाली प्राथमिक प्रणाली है।

1952 में पूर्व राष्ट्रपति हर्बर्ट हूवर ने शिकागो में 1952 के रिपब्लिकन नेशनल कन्वेंशन को संबोधित करने के लिए श्लाफली-डिज़ाइन किए गए भाषण टेलीप्रॉम्प्टर का उपयोग किया था।

अमेरिकी गवर्नर पॉल ए. डेवर ने 1952 में शिकागो में आयोजित डेमोक्रेटिक नेशनल कन्वेंशन में भाषण दिया था, जिसमें कन्वेंशन दर्शकों में एक टीवी तकनीशियन द्वारा रखे गए लंबे पोल पर एक मैकेनिकल-रोल टेलीप्रॉम्प्टर का उपयोग किया गया था, जबकि 1952 के रिपब्लिकन नेशनल कन्वेंशन में एक छोटे टेलीप्रॉम्प्टर का उपयोग किया गया था।

वक्ता के आसन के सामने मैकेनिकल प्रॉम्प्टर्स का उपयोग 1992 तक भी किया जा रहा था।

राजनेताओं द्वारा टेलीप्रॉम्प्टर के उपयोग के शुरुआती वर्षों में, कुछ लोगों ने इस उपकरण को धोखाधड़ी के रूप में देखा।

साल 1955 में, ओरेगॉन के डेमोक्रेटिक सीनेटर रिचर्ड एल. न्यूबर्गर ने कानून का प्रस्ताव रखा कि यदि कोई राजनेता टेलीप्रॉम्प्टर का उपयोग करता है तो डिवाइस के उपयोग को भाषण में नोट किया जाना चाहिए।

नई तकनीक को प्रायोजित फिल्म उद्योग में तेजी से अपनाया गया, जहां उत्पादन लागत में कटौती से पैसा कमाने वाली फिल्म और पैसा खोने वाली फिल्म के बीच अंतर हो गया।

सिनेक्राफ्ट प्रोडक्शंस टेलीप्रॉम्प्टर के साथ तीन-कैमरा सिंक्रनाइज़ फिल्मांकन की उपलब्धता का विज्ञापन करने वाला पहला था जब 1954 में उन्होंने प्रायोजित फिल्म उद्योग को समर्पित एक पत्रिका बिजनेस स्क्रीन में नई तकनीक के उपयोग का विज्ञापन करना शुरू किया।

सिनेक्राफ्ट ने 1953 से 1960 की साप्ताहिक टेलीविजन श्रृंखला, द ओहियो स्टोरी को फिल्माने के लिए इस तकनीक का उपयोग किया।

सिनेक्राफ्ट ने 1950 और 60 के दशक में कार्यकारी डेस्क वार्ता के लिए भी इस तकनीक का उपयोग किया था।

4 जनवरी 1954 को, ड्वाइट आइजनहावर पहले राष्ट्रपति थे जिन्होंने स्टेट ऑफ द यूनियन संबोधन के लिए टेलीप्रॉम्प्टर का उपयोग किया था।

पहला पर्सनल कंप्यूटर आधारित टेलीप्रॉम्प्टर, कंप्यूप्रॉम्प्ट 1982 में सामने आया, इसका आविष्कार और विपणन लॉस एंजिल्स, कैलिफोर्निया में कर्टनी एम. गुडिन और लारेंस बी. अब्राम्स द्वारा किया गया था।

कस्टम सॉफ़्टवेयर और विशेष रूप से पुन: डिज़ाइन किया गया कैमरा हार्डवेयर अटारी 800 कंप्यूटर पर चलता था, जिसमें सुचारू हार्डवेयर-सहायता वाली स्क्रॉलिंग शामिल थी।

उनकी कंपनी बाद में ProPrompt, Inc. बन गई, जो कि अभी भी कारोबार में है।

बाद में पेपर-आधारित टेलीप्रॉम्प्टिंग कंपनियों इलेक्ट्रॉनिक स्क्रिप्ट प्रॉम्प्टिंग, क्यूटीवी और टेलीस्क्रिप्ट ने भी इसका अनुसरण किया और कई वर्षों बाद अपना स्वयं का सॉफ़्टवेयर विकसित किया।

जब टेक्स्ट को आसानी से स्क्रॉल करने के लिए पर्याप्त शक्तिशाली कंप्यूटर उपलब्ध हो गए, जनवरी 2010 में Compu=Prompt को “इलेक्ट्रॉनिक प्रॉम्प्टिंग में अग्रणी विकास” के लिए प्रौद्योगिकी और इंजीनियरिंग एमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

टेलीप्राम्प्टर के प्रकार –

प्रयोग और डिजाइन के हिसाब से टेलीप्राम्प्टर कई तरह के होते है, लेकिन सभी का मुख्य काम एक ही होता है, नीचे इसके कुछ प्रकारों के बारे में बात की गई है।

टेलीविजन टेलीप्राम्प्टर –

न्यूज चैनल, फिल्म या विडिओ शूटिंग के लिए आधुनिक टेलीप्रॉम्प्टर में एक पर्सनल कंप्यूटर होता है, जो एक या एक से अधिक प्रोफेशनल वीडियो कैमरे पर वीडियो मॉनिटर से जुड़ा होता है।

कुछ सिस्टम में दूरी और केबलिंग में अधिक लचीलापन प्रदान करने के लिए पीसी एक अलग डिस्प्ले डिवाइस से कनेक्ट होता है।

teleprompter in hindi
टेलीविजन प्राम्प्टर

इस टेलीप्राम्प्टर से जुड़ा रीमोट कंट्रोल होता है, जिसका कंट्रोल एंकर के हाथों में होता है।

इस रिमोट कंट्रोल में कुछ बटन लगे होते है, जिसे टेक्स्ट की स्क्रॉलिंग को तेज करने, धीमा करने या यहां तक ​​कि रिवर्स करने के लिए घुमाया जा सकता है।

सर्वोत्तम पठनीयता के लिए पाठ आमतौर पर काले पृष्ठभूमि पर सफेद अक्षरों में प्रदर्शित होता है, जबकि संकेत उलटे वीडियो ( सफेद पर काला ) में होते है।

इस तरह के टेलीप्राम्प्टर का उपयोग ज्यादातर न्यूज चैनल अलग-अलग विषय पर भाषण देने, ऑडियो रिकॉर्डिंग, अलग-अलग संगठनों और स्कूलों इत्यादि में किया जाता है।

इसका प्रयोग एक सॉफ्टवेयर की मदद से डेस्कटॉप कंप्यूटर, लैपटॉप कंप्यूटर और यहां तक ​​कि टैबलेट और स्मार्टफोन पर भी प्रयोग किया जा सकता है, इसीलिए इन्हें आमतौर पर “व्यक्तिगत टेलीप्रॉम्प्टर” कहा जाता है।

ग्लास टेलेप्रॉम्प्टर –

ग्लास टेलीप्रॉम्प्टर का उपयोग पहली बार 1956 के डेमोक्रेटिक नेशनल कन्वेंशन में किया गया था।

टेलीप्रॉम्प्टर के आविष्कारक, ह्यूबर्ट श्लाफली ने बताया कि वह उस समय उपयोग किए जाने वाले टेलीप्रॉम्प्टर की तुलना में कम बाधा डालने वाली टेलीप्रॉम्प्टिंग प्रणाली बनाना चाहते थे।

teleprompter in hindi
ग्लास टेलीप्राम्प्टर और उसकी पोजीशन

उन्होंने कहा, “हमने एक ‘वन-वे मिरर’ डिवाइस विकसित किया है जिसे स्पीच व्यू सिस्टम कहा जाता है… बेस में छिपा हुआ प्रॉम्प्टर, ग्लास पर मौजूद टेक्स्ट को स्पीकर के सामने प्रतिबिंबित करता है।

इस सिस्टम में दो यूनिट एक वक्ता के दाईं ओर और एक बाईं ओर लगाए जाते है, जो वक्ता को एक से दूसरे पर ग्लास स्विच करने और पूरे दर्शकों को संबोधित करने की सुविधा देता है।

इस उपकरण का अब दुनिया भर में नेताओं या चर्चित व्यक्तियों के द्वारा भाषण देने के लिए उपयोग होता है।

कॉन्फिडेंस मानिटर –

1996 में, पहली बार, शिकागो, इलिनोइस के यूनाइटेड सेंटर में आयोजित डेमोक्रेटिक नेशनल कन्वेंशन में वक्ताओं ने चार-टेलीप्रॉम्प्टर प्रणाली का उपयोग किया

Teleprompter Kya Hota Hai
बड़े हाल में दर्शकों के पीछे लगा टेलीप्राम्प्टर

इस तरह के टेलीप्रॉम्प्टर सिस्टम में स्क्रीन का साइज़ बहुत बड़ा होता है और यह स्क्रीन स्टेज के पास ही नीचे की ओर, दर्शकों के बीच में या दर्शकों के ऊपर की ओर लगी हुई होती है।

teleprompter in hindi
स्टेज के नीचे लगा हुआ टेलीप्राम्प्टर

Teleprompter Kya Hota Hai | | टेलीप्रॉम्प्टर क्या होता है | What Is Teleprompter In Hindi

इस तरह के सिस्टम में एक से ज्यादा स्क्रीन का प्रयोग किया जाता है, वक्ता को बोलते समय बार-बार एक ही दिशा में सिर न घुमाना पड़े।

पेपर प्रॉम्प्टर –

घाना के एक वीडियो पत्रकार, इमैनुएल क्वासी डेबरा, जो साक्षात्कार के दौरान समय बर्बाद करने से थक गए थे, जब विषयों के विचार मिश्रित हो जाते थे, तो उन्होंने एक पोर्टेबल डिवाइस डिज़ाइन किया, जिसे पेपर प्रॉम्प्टर के नाम से जाना जाता है।

teleprompter in hindi
चित्र – पेपर टेलीप्राम्प्टर

इसका उद्देश्य लैपटॉप या कागज के टुकड़े पर अंक टाइप करने और उसे साक्षात्कारकर्ता को दिखाने से बचना है।

यह एकल पत्रकारों के लिए विशेष रूप से सहायक है जिनका ध्यान अक्सर कैमरा संभालने और साक्षात्कारकर्ता पर ध्यान केंद्रित करने के बीच बंटा रहता है।

यह उपकरण एक खोखले शाफ्ट से बना होता है जिसमें एक बेलनाकार बार लगा होता है जिसमें बार के किनारे को संरेखित करने वाले छेद होते हैं। छेद क्लिप से लगाव के बिंदु हैं।

इसलिए कागज की शीट को क्लिप द्वारा बार से पकड़कर रखा जाता है। कैमरे या कागज के आकार के आधार पर बेलनाकार पट्टी की लंबाई को नियंत्रित करने के लिए इसमें एक बोल्ट लगाया जाता है।

उपकरण में कैमरे पर लगाने के लिए एक हॉट शू एडॉप्टर है और लाइट या माइक्रोफ़ोन को समायोजित करने के लिए शीर्ष पर एक कोल्ड शू एडॉप्टर है।

जब रिपोर्टर अपने कैमरे पर ध्यान केंद्रित करता है, साक्षात्कारकर्ता कागज की शीट को देखता है जिसमें साक्षात्कारकर्ताओं को साक्षात्कार को सुचारू रूप से पूरा करने में मदद करने के लिए महत्वपूर्ण बिन्दु लिखे होते है।

साक्षात्कारकर्ताओं के लिए साक्षात्कारकर्ता के हस्तक्षेप के बिना उत्तर देने के लिए टेलीप्रॉम्प्टर पेपर पर प्रश्न लिखे जा सकते हैं, वर्तमान में इस तरह के टेलीप्राम्प्टर का प्रयोग नहीं किया जाता है।

लोगों के द्वारा टेलीप्राम्प्टर का प्रयोग –

किसी बड़े पद पर मौजूद कोई व्यक्ति के लिए हर मिनट महत्वपूर्ण होता है, ऐसे में उन्हे लगभग रोज ही एक ही दिन में कई सारे स्पीच देने पड़ते है।

अगर साधारण रूप में आप देखें तो एक ही दिन में इतने सारे भाषण को पढ़कर याद करना संभव नहीं है, इसलिए पहले के समय में स्पीकर लिखा हुआ भाषण पढ़ते थे, लेकिन समय के साथ टेलीप्राम्प्टर ने इसे ऐसा बना दिया है कि मानो कोई व्यक्ति अपने मन से सोच करके बोल रहा है।

आज के समय में केवल भारत ही नहीं बल्कि विश्व के बड़े और शक्तिशाली लोगों के द्वारा इसका प्रयोग किया जाता है।

टेलीप्राम्प्टर के नुकसान –

वैसे तो इसके काफी सारे फायदे है, लेकिन इसका एक सबसे बाद हुकसन है और वह है इसपर पूरी तरह से निर्भर होना।

इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस की कोई गारंटी नहीं होती है कि वे कब काम करना बंद कर दें, ऐसे में यदि बीच भाषण के दौरान आपका टेलीप्राम्प्टर काम करना बंद कर दे तो….

बीते समय में ऐसी कई घटनाएं हुई है जब इसने बीच स्पीच के दौरान काम करना बंद कर दिया।

हाल ही में यह हमारे प्रधानमंत्री मोदी जि के साथ हुआ जियहाँ स्पीच के दौरान टेलीप्राम्प्टर में दिक्कत आ गई, जिसके कारण उन्हें बीच में ही स्पीच रोकना पड़ा।

टेलीप्राम्प्टर का प्रयोग कैसे करें? –

आज के समय में इसका प्रयोग कोई भी कर सकता है, टेलीप्राम्प्टर का प्रयोग स्मार्टफोन, टैबलेट या लैपटॉप पर एक सॉफ्टवेयर की मदद से किया जा सकता है।

नीचे कुछ ऐसे ही सॉफ्टवेयर/एप्स के बारे में जानकारी दी गई है, जिनका प्रयोग आप कर सकते है –

Teleprompter Pro Lite
Prompster
Parrot Teleprompter
Selvi
PromptSmart
BIGVU
Video Teleprompter

Summary –

निश्चित ही टेक्नॉलजी ने हमारे काम करने के तरीके को बदल दिया है, एक इंसान के रूप में हम जो कुछ भी कर सकते है, तकनीक की मदद से उससे कहीं ज्यादा कर सकते है।

तो दोस्तों, Teleprompter Kya Hota Hai, इसके बारे में यह आर्टिकल आपको कैसा लगा, हमें जरूर बताएं नीचे कमेन्ट बॉक्स में यदि आपके पास इससे संबंधित कोई भी सवाल या सुझाव है तो उसे भी जरूर लिखें, इस आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ शेयर करना न भूलें धन्यवाद 🙂

A Student, Digital Content Creator, and Passion for Photography... Founder of 'Hindi Me Blog' इस ब्लॉग पर आपको टिप्स & ट्रिक्स, योजना, लाइफस्टाइल, हाउ टू से संबंधित जानकारियाँ देखने को मिलेंगी, रोज कुछ नया सीखने के लिए हमारे ब्लॉग को विजिट करें।

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.